आकर्षक ब्लॉग शीर्षक कैसे लिखे | how to write catchy blog titles

अधिक क्लिक पाने के लिए आकर्षक ब्लॉग शीर्षक लिखें | Write catchy blog titles to get more clicks

आप सभी लोग जो ब्लॉग्गिंग या फिर यूट्यूब करते हो, उन सभी लोगो को यह पता है की आकर्षक ब्लॉग शीषर्क (catchy blog titles) कितना महत्वपूर्ण है।

आकर्षक ब्लॉग टाइटल लिखने के फायदे | benefits of writing catchy blog titles

  • गूगल अल्गोरिथम की नज़र में आपके ब्लॉग की वैल्यू बढ़ती है जिससे आपके ट्रैफिक में वृद्धि होगी आपकी कमाई भी बढ़ेगी।
  • वाचको की उत्सुकता बानी रहती है जिससे उनका अनुभव अच्छा होता है। इसके कारण लोग आपके ब्लॉग पर वापस आएंगे। इससे आपकी और आपके ब्लॉग की ब्रांड वैल्यू भी बढ़ेगी।
  • वाचक आपके ब्लॉग को सोशल मीडिया पर शेयर करेंगे जिससे आपके ब्लॉग के सोशल सिग्नल्स बढ़ेंगे जो की SEO में फायदा करेंगे।

आकर्षक शीषर्क न ही सिर्फ आपके ब्लॉग के वाचको की संख्या बढ़ता है पर यह गूगल के अल्गोरिथम की नज़र में आपके ब्लॉग का मूल्य (value) भी बढ़ता है। इस बात को मैं यहाँ पर थोड़ा समजाना चाहूंगा।

  • अगर उदहारण के तौर पे कहु तो मान लीजिये की आपने एक आर्टिकल लिखा है जिसका विषय या फिर कीवर्ड है ‘how to write a blog’ (ब्लॉग कैसे लिखे)।
  • अब अगर कोई google में ‘how to write a blog’ करके करता है तो उसे निचे बताये गए परिणाम दीखते है उसी क्रमांक में दीखते है।
    1. how to write a blog for beginners (नौसिखिए लोगों के लिए ब्लॉग कैसे लिखें)
    2. how to write a blog in 5 minutes (5 मिनट में ब्लॉग कैसे लिखें)
    3. how to write a blog on any topic (किसी भी टॉपिक पर ब्लॉग कैसे लिखें)
    4. how to write a blog that ranks on google and makes money (एक ब्लॉग कैसे लिखें जो Google पर रैंक करता है और पैसा कमाता है)
  • अगर आप होते तो आप कौन से नंबर पर क्लिक करते? मेरा अनुमान है की आप समझदारी से काम लेंगे और 4 नंबर की लिंक पर क्लिक करेंगे।
  • गूगल भी यही देखता है की आपने पहले ३ परिणाम को छोड़ कर 4 नंबर पे क्लिक किया।
  • गूगल का अल्गोरिथम यही देखेगा की खोजकर्ता ४ नंबर की लिंक पे क्लिक कर रहे है मतलब की वो लिंक के शीषर्क में कुछ तो ऐसा बताया गया है की जो लोगो को या तो पसंद आ रहा है या फिर लोगो की उत्सुकता को बढ़ा रहा है। ऐसे ही गूगल उस वेबसाइट को ट्रैफिक भेजना शुरू करता है।
  • गूगल कब तक आपको ट्रैफिक भेजेगा यह अन्य मापदंडो पर भी निर्भर करता है। जैसे की आपने शीषर्क तो अच्छा लिख लिया पर आर्टिकल शीषर्क के हिसाब से नहीं लिखा है तो लोग या यूज़र्स आ के तुतंत ही चले जायेंगे और आपका बाउंस रेट बढ़ जायेगा। पर यह हम किसी और लेख में चर्चा करेंगे।
  • फिलहाल के लिए इतना समज लीजिये की catchy blog title लिखने से आपका फायदा ही होगा।

Table of Contents

आकर्षक ब्लॉग टाइटल कैसे लिखें | how to write catchy blog titles

आकर्षक ब्लॉग शीषर्क लिखने की कला को मैं २ हिस्सों में बाँट रहा हूँ।

  • तकनिकी पहलू (Technical aspect)
  • रचनात्मकता पहलू (Creativity aspect)

तकनिकी पहलू (Technical aspect of writing catchy blog titles)

Technical aspect of writing catchy blog titles
Technical aspect of writing catchy blog titles
  • कीवर्ड्स का इस्तेमाल | Keywords usage
    • गूगल का अल्गोरिथम सबसे पहले अगर किसी चीज़ को ध्यान में लेता है तो वो है सर्च क्वेरी (search query), जिसे हम कीवर्ड (keyword) कहते है।
    • इसी बात को ध्यान में रखते हुए समजे की अगर गूगल को किसी भी खोजकर्ता को आपके ब्लॉग या आर्टिकल पे लाना है तो वो सबसे पहले कीवर्ड्स के इस्तेमाल को देखेगा।
    • कीवर्ड्स का आपके ब्लॉग के शीषर्क में होना बेहद ही ज़रूरी है। यह SEO बेस्ट प्रैक्टिसेज (SEO best practices) का हिस्सा है और यह ज़रूरी है।
    • उदहारण के तौर पे अगर आपने एक आर्टिकल लिखा है जिसमे आप बता रहे हो की सोने की खदान में से सोना कैसे निकाले और पैसे कमाए, और उसी लेख का शीषर्क आपने दे रखा है की ‘पैसे कमाओ और केक खाओ’ तो गूगल तो क्या आप खुद भी आपके ब्लॉग तक नहीं पहुंच पाओगे।
    • कीवर्ड रिसर्च के लिए आप google keyword planner tool and answer the public इनका उपयोग कर सकते है।
  • शीर्षक की लंबाई | Length of the title
    • कभी कभी ऐसा होता है की हमारे अंदर का लेखक या कवी ज्वालामुखी की तरह फट पड़ता है और हम बोहत कुछ लिख देते है।
    • ज़रा ध्यान रखिये की हमे शीषर्क लिखना है, शायरी नहीं।
    • कोशिश कीजिये की आपके शीषर्क के अक्षरों की गिनती ५५ या फिर उससे कम हो और शब्दों की गिनती ५ – ८ के बीच में हो।
    • यह बात गूगल नहीं बताता है पर सारे SEO एक्सपर्ट्स का मानना है।
  • शीषर्क में कीवर्ड का इस्तेमाल | Use of keyword in title
    • शीषर्क में कीवर्ड स्टफ़िंग न करे।
    • शीषर्क में सिर्फ एक ही कीवर्ड का इस्तेमाल करे।
    • कीवर्ड को शीषर्क के शुरुआत में इस्तेमाल करने की कोशिश करे।
  • योग्य जानकारी | relevant information
    • शीषर्क और लेख में एकसमान या मिलतीजुलती (relevant) जानकारी दे।
    • हो सकता है की ऐसा करने से गूगल आपके ब्लॉग को गुमराह करने वाले कंटेंट (misleading content) में डाल दे।
  • कुछ महत्त्वपूर्ण बाते
    • लेख का शीषर्क लेख के संदेश को बतानेवाला होना चाहिए।
    • शीषर्क छोटा होना चाहिए पर इतना भी छोटा मत कीजिये की लोगो को समाज में ही न आये।
    • शीषर्क को अद्वितीय और दिलचस्प बनाये, लेकिन बहुत अजीब या अविश्वसनीय न हों।
    • सबसे अच्छा शीषर्क वो होगा की जो आपके लेख का संदेश और वाचको की उत्सुकता दोनों मापदंड पे खरा उतरे।
    • अश्लील या फिर आहत देने वाली भाषा का इस्तेमाल न करे।
    • नकारात्मक अर्थ वाले शब्दों का प्रयोग करने से बचे।

रचनात्मकता पहलू (Creativity aspect of writing catchy blog titles)

Creativity aspect of writing catchy blog titles
Creativity aspect of writing catchy blog titles

यह टाइटल लिखने का वो हिस्सा है जीसमे आपकी रचनात्मक क्षमताओं का परीक्षण होगा।

  • संख्या का इस्तेमाल करे | Use numbers in your title
    • उदाहरण के तौर पे बताऊ तो ‘१० तरीके करेले का हलवा बनाने के’ या फिर ‘२० कारण ब्लॉग लिखने के’।
    • इसे ‘लिस्ट टाइटल’ (list title) भी कहा जाता है।
    • इसका बतौर लेखक आपको फायदा यह है की अपने आर्टिकल को आसानी से बिन्दुवार (point by point) बता सकते हो।
    • वाचको के नज़रिये से बात करू तो उन्हें टाइटल देख के ही पता चल जाता है की उन्हें कितनी जानकारी मिलने वाली है और लेख कैसे लिखा हुआ है।
    • वैसे तो किसी भी लेख को आप ‘लिस्ट टाइटल’ दे के लिख सकते हो, पर मेरे हिसाब से सबसे ज़्यादा फायदा आपको किसी लम्बे या कठिन विषय पर लिखने से होगा।
    • उदहारण के तौर पे ‘१२ फायदे जीवन बीमा करने के’ या फिर ‘२१ नुस्खे ब्लॉग का ट्रैफिक बढ़ने के’
  • मार्गदर्शक टाइटल | Guidance title
    • इसे २ तरह से लिखा जा सकता है। मैंने दोनों ही तरीके को निचे बताया है।
    1. सामान्य उपयोग के लिए मार्गदर्शिका | ‘A guide to … ‘ for general purpose or use
      • ऐसा टाइटल आप तभी दे जब कोई भी एक समस्या को सुलझाने के एक से ज़्यादा तरीके हो।
      • या फिर ऐसी कोई प्रक्रिया के लिए जो घटनाओं के कालानुक्रमिक अनुक्रम से प्रभावित नहीं होती है।
    2. विशेष रूप से ‘कैसे करे … ‘ | Specifically ‘how to … ‘
      • यह टाइटल आप तभी लिखना जब आप किसी विशेष समस्या का विशिष्ट समाधान दे रहे हो या फिर किसी प्रक्रिया को करने का एक विशिष्ट तरीका बता रहे हो जो की चरण-दर-चरण निर्देश हो (step by step instructions)।
      • उदहारण के तौर पे बताऊ तो ‘चाय कैसे बनाये’ टाइटल है तो उसमे मुझे चाय बनाने की साडी प्रक्रिया को समजाना है। जैसे की पानी, चाय पत्ती और शक्कर को बर्तन में उबाल ले और फिर उसमे दूध डाले और फिर उसे छन्नी में से निकल कर कप में ले।
      • ऊपर मैंने जो भी बताया है उसमे कुछ भी ऊपर निचे नहीं हो सकता। अगर ऐसा हुआ तो चाय नहीं बनेगी।
      • ऐसे लेखो के लिए ‘कैसे करे … ‘ वाले शीषर्क बनाये।
      • यह शीर्षक पाठक को सूचित करता है कि लेख एक महत्वपूर्ण कौशल सिखाता है।
  • प्रश्नवाचक शीर्षक | Interrogative titles
    • यह वो शीषर्क है जीसमे आप कोई सवाल पूछते हो, जैसे की कब, कहाँ, क्यों, इत्यादि।
    • इसके 3 फायदे है
      1. अव्वल तो यह की वाचक जो सवाल सोच रहा है उसी को आपने अपने लेख के शीषर्क में लिख दिया है। इससे वाचक आपके लेख से सीधा ही जुड़ पाएंगे।
      2. दूसरा यह की यह शीषर्क पढ़ने के बाद वाचक को यकीन हो जाता है की यह आर्टिकल पढ़ने के बाद उसे अपनी समस्या का समाधान मिल जायेगा।
      3. SEO के दृष्टिकोण से यह फायदा है की ऐसे वाले टाइटल का bounce rate कम होता है। इससे गूगल की नज़र में आपके आर्टिकल और वेबसाइट की authenticity बढ़ जाती है।
    • उदाहरण के तौर पे केक कहाँ से खरीदे?
  • कीवर्ड वाले शीषर्क | Keyword titles
    • कीवर्ड वाले शीषर्क का फायदा यह है की ‘on page optimisation’ थोड़ा सा आसान हो जाता है।
    • ऐसे शीषर्क से न ही सिर्फ वाचको को परन्तु गूगल को भी पता चल जाता है की आपका लेख किस विषय पर है।
    • कीवर्ड के साथ साथ आप अन्य तरीको का भी साथ में इस्तेमाल कर सकते है।
  • तुलना वाले शीषर्क | comparison titles
    • ऐसा शीषर्क आप उस आर्टिकल के लिए लिखे जीसमे आप कोई भी २ या फिर उससे अधिक वस्तु की तुलना कर रहे हो।
    • उदहारण के तौर पे कहु तो ‘AHREF’ vs ‘SEM Rush’
    • ऐसा शीषर्क लिखने से वाचको को सीधे सीधे पता चल जायेगा की वो क्या पढ़ने जा रहे है।
    • अगर आपको आर्टिकल का विषय या फिर कंटेंट खोजने में दिक्कत आ रही है तो आप ऐसे आर्टिकल लिख सकते है। बस ख्याल यह रखे की इसमें कॉपी – पेस्ट (copy – paste) वाला काम नहीं चलेगा। आपको अपना अनुभव भी लिखना होगा।

कुछ और तरीके | Few other types to effectively write catchy blog titles

  • ‘आसानी से … ‘ वाले शीषर्क
    • अगर आप किसी लेख में किसी समस्या का समाधान बता रहे हो या फिर कुछ अलग तरह से करने का सुझाव दे रहे हो, तो ऐसा शीषर्क ज़रूर लिखे।
    • उदहारण के तौर पे ‘आसानी से घटाए ब्लॉग का बाउंस रेट’ या फिर ‘कॉम्पिटिटर का बैकलिंक आसानी से खोजे’
  • शीर्षक में नकारात्मक शब्द | negative word in title
    • आपने कभी न कभी तो ऐसे लेख पढ़ा होगा जीसमे लेखक आपको कुछ करने से मना कर रहा हो।
    • उदहारण के तौर पे कहु तो आपने ‘आर्टिकल कैसे लिखे’ शीषर्क वाले आर्टिकल बोहत देखे होंगे, पर ‘आर्टिकल कैसे न लिखे’ शीषर्क वाले आर्टिकल कम ही है।
    • ऐसा टाइटल लिखने से पहले एक बार google में और google keyword planner tool में चेक कर लीजियेगा।
    • अगर आपको ऐसे शीषर्क का सर्च वॉल्यूम google keyword planner tool में मिल रहा है तो ऐसे आर्टिकल को ज़रूर लिखे।
    • ऐसे शीषर्क वाचको का ध्यान तुरंत ही अपनी और खींच लेगा।
    • मेरा मानना है की ऐसे शीषर्क वाले आर्टिकल को सोशल मीडिया में शेयरिंग ज़्यादा मिलती है।
  • फायदा दर्शानेवाले शीषर्क | Title which show benefits
    • उदहारण के यौर पे बताऊ तो ‘जल्दी से ब्लॉग से पैसे कमाओ’ या फिर ‘३ सप्ताह में गूगल में रैंक करे’।
  • सब कुछ जाने वाले टाइटल | ‘all you need to know’ type of title
    • उदहारण के तौर पे कहु तो ‘ब्लॉग्गिंग के बारे में सब कुछ जाने’
    • अगर आपने किसी विषय पर एक बोहत ही अच्छा और विस्तृत लेख लिखा है तभी आप ऐसा शीषर्क दे।

अंतिम विचार आकर्षक शीषर्क लिखने के लिए | Final thoughts about writing catchy blog titles

  • सबसे महत्त्वपूर्ण बात यह है की शीषर्क की लम्बाई ५५ वर्ण से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • रचनात्मक शीषर्क लिखने की चाह और चक्कर में ध्यान रहे की शीषर्क पेचीदा न हो जाये।
  • शीषर्क में रचनात्मकता ज़रूरी नहीं है। फायदेकारक ज़रूर है। सबसे ज़्यादा महत्व दीजिये अपने आर्टिकल के कंटेंट पे।
  • ज़्यादातर लेख में मैं सिंपल कीवर्ड टाइटल ‘Simple keyword title’ ही लिखता हूँ।

अगर आपको कोई सवाल पूछना है तो आप निचे टिप्पणियों में पूछ सकते है। इसके अलावा आप मुझे संपर्क करे पर भी लिख सकते है।

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो कृपया करके अपने सोशल मीडिया पर शेयर ज़रूर करे।
धन्यवाद्।

Spread the love

Leave a Comment